क्रांति १८५७
1 8 5 7

यह वेबसाईट इस महान राष्ट्र को सादर समर्पित।

1 9 4 7

झांसी की रानी का ध्वज

स्वाधीन भारत की प्रथम क्रांति की 150वीं वर्षगांठ पर शहीदों को नमन
वर्तमान भारत का ध्वज
मुख्य पृष्ठ प्रस्तावना प्रमुख सवाल जवाब आपकी राय संपर्क करें सहायता
 Home Introduction FAQ Feedback Contact Us Help
क्रांति १८५७
 

प्रस्तावना

  रुपरेखा
  1857 से पहले का इतिहास
  मुख्य कारण
  शुरुआत
  क्रान्ति का फैलाव
  कुछ महत्तवपूर्ण तथ्य
  ब्रिटिश आफ़िसर्स
  अंग्रेजो के अत्याचार
  प्रमुख तारीखें
  असफलता के कारण
  परिणाम
  कविता, नारे, दोहे
  संदर्भ

विश्लेषण व अनुसंधान

  फ़ूट डालों और राज करो
  साम,दाम, दण्ड भेद की नीति
  ब्रिटिश समर्थक भारतीय
  षडयंत्र, रणनीतिया व योजनाए
  इतिहासकारो व विद्वानों की राय में क्रांति 1857
  1857 से संबंधित साहित्य, उपन्यास नाटक इत्यादि
  अंग्रेजों के बनाए गए अनुपयोगी कानून
  अंग्रेजों द्वारा लूट कर ले जायी गयी वस्तुए

1857 के बाद

  1857-1947 के संघर्ष की गाथा
  1857-1947 तक के क्रांतिकारी
  आजादी के दिन समाचार पत्रों में स्वतंत्रता की खबरे
  1947-2007 में ब्रिटेन के साथ संबंध

वर्तमान परिपेक्ष्य

  भारत व ब्रिटेन के संबंध
  वर्तमान में ब्रिटेन के गुलाम देश
  कॉमन वेल्थ का वर्तमान में औचित्य
  2007-2057 की चुनौतियाँ
  क्रान्ति व वर्तमान भारत

वृहत्तर भारत का नक्शा

 
 
चित्र प्रर्दशनी
 
 

क्रांतिकारियों की सूची

  नाना साहब पेशवा
  तात्या टोपे
  बाबु कुंवर सिंह
  बहादुर शाह जफ़र
  मंगल पाण्डेय
  मौंलवी अहमद शाह
  अजीमुल्ला खाँ
  फ़कीरचंद जैन
  लाला हुकुमचंद जैन
  अमरचंद बांठिया
 

झवेर भाई पटेल

 

जोधा माणेक

 

बापू माणेक

 

भोजा माणेक

 

रेवा माणेक

 

रणमल माणेक

 

दीपा माणेक

 

सैयद अली

 

ठाकुर सूरजमल

 

गरबड़दास

 

मगनदास वाणिया

 

जेठा माधव

 

बापू गायकवाड़

 

निहालचंद जवेरी

 

तोरदान खान

 

उदमीराम

 

ठाकुर किशोर सिंह, रघुनाथ राव

 

तिलका माँझी

 

देवी सिंह, सरजू प्रसाद सिंह

 

नरपति सिंह

 

वीर नारायण सिंह

 

नाहर सिंह

 

सआदत खाँ

 

सुरेन्द्र साय

 

जगत सेठ राम जी दास गुड वाला

 

ठाकुर रणमतसिंह

 

रंगो बापू जी

 

भास्कर राव बाबा साहब नरगंुदकर

 

वासुदेव बलवंत फड़कें

 

मौलवी अहमदुल्ला

 

लाल जयदयाल

 

ठाकुर कुशाल सिंह

 

लाला मटोलचन्द

 

रिचर्ड विलियम्स

 

पीर अली

 

वलीदाद खाँ

 

वारिस अली

 

अमर सिंह

 

बंसुरिया बाबा

 

गौड़ राजा शंकर शाह

 

जौधारा सिंह

 

राणा बेनी माधोसिंह

 

राजस्थान के क्रांतिकारी

 

वृन्दावन तिवारी

 

महाराणा बख्तावर सिंह

 

ठाकुर विश्वनाथ शाहदेव

क्रांतिकारी महिलाए

  1857 की कुछ भूली बिसरी क्रांतिकारी वीरांगनाएँ
  रानी लक्ष्मी बाई
 

बेगम ह्जरत महल

 

रानी द्रोपदी बाई

 

रानी ईश्‍वरी कुमारी

 

चौहान रानी

 

अवंतिका बाई लोधो

 

महारानी तपस्विनी

 

ऊदा देवी

 

बालिका मैना

 

वीरांगना झलकारी देवी

 

तोपख़ाने की कमांडर जूही

 

पराक्रमी मुन्दर

 

रानी हिंडोरिया

 

रानी तेजबाई

 

जैतपुर की रानी

 

नर्तकी अजीजन

 

ईश्वरी पाण्डेय

 
 

हरियाणा

1857 में हरियाणा के कई गांवों जैसे लिबासपुर, मुरथल, कुंडली, क्हामपुर, अलीपुर, हमीदपुर, सराय, झाडसा, गुडगांव तथा नगरों जैसे रेवाड़ी, भिवानी, हासी, झज्जर बल्लभगढ, फ़रू ख में सशस्त्र क्रांति हुई थी।

रेवाड़ी के शासक राव तुला राम तथा उनके चचेरे भाई वीर शिरोमणी राव कृष्णगोपाल, झज्जर के नवाब अब्दुर्रहमान खां तथा उनके ससुर, मेवात के सरदार अलीहसन खां, रू दम खां, बल्लभगढ़ के राजा नाहरसिंह, फ़र्रुख नगर के नवाब फ़ौजदार खां आदि ने क्रांति का नेतृत्व किया। पर अंत में विफ़लता हाथ लगी।

राव गोपाल कृ ष्ण तथा समद खां नसीपुर के युद्ध में भारत की आजादी के लिए लड़ते-लड़ते शहीद हुए। इनके अलावाबल्लभगढ़ के राजा नाहरसिंह के सम्बंधी और भाड़सा परगना के ज़ागीरदार बख्तावर सिंह को भी ब्रितानियों ने फ़ांसी दे दी।

हिसार

दिनांक 12 मई, 1857 को नित्य की तरह हिसार के डाकघर से प्राप्त होने वाले काली थैलियाँ नहीं आई। जिलाधीश एवं ब्रितानी गंभीर चिंताग्रस्त हो गए। उस माह की तेरह तारीख़ को मेरठ के बलवे तथा दिल्ली के फ़साद का विस्तृत विवरण पता लगा। ज़िलाधीश ने तुरंत बंदोबस्त किया और ख़ज़ाने को किलें के भीतर भेज दिया। उसने स्वयं भी अपना बंगला को ख़ाली किया और अपनी पत्नी एवं बच्चों के साथ किले के भीतर शरण ली। हरियाणा जिला के रंगहर जाति के सिपाहियों को खजाने और किले की रक्षा के लिए नियुक्त किया गया। हरियाणा सैन्य अफसर लेफ्टिनेण्ट मरडेल और दौरानदेरी के अजैतन ने एक बँगले में रहना प्रारम्भ किया। अस्सी सिपाहियों को बुलाया गया। पूर्व में किए गए समझौते के अनुसार रईस दादरी नवाब बहादूर जंगखान की ओर से सौ घोड़ों की एक रिसाला, जिलाधीश के सहायक के रूप में रहने लगी। वह बाग़ में रही। इस रिसाला के रिसालादार शेख नूरुद्दीन के माध्यम से बीस और अश्वारोही उक्त रिसाले में भर्ती किए गए। जहाँ कहीं भी आवश्यकता समझी गई वहाँ तहसील, न्यायालय, नगर आदि में रक्षकभटों को अच्छी तरह से तैनात किया गया। पन्द्रह दिनों के पश्चात् एक अफ़वाह उड़ी कि शहज़ादा शेरदिल, जो एक सरकारी नौकर था और जिसे लाड़वाणी में सहायक अनुज्ञा अधिकारी के पद पर नियुक्त किया गया था, ने विद्रोह करने के लिए अपनी कमर कस ली है। वह स्वयं एक उच्चाधिकारी बन गया था। और सुरक्षा की दृष्टि से पचास अतिरिक्त घोड़ों को कथित नवाब के पास से मँगवाया गया। इसके अतिरिक्त जिलाधीश ने और घोड़ों एवं पदाति सैनिकों को भर्ती किया। 90 घोड़ों और सैनिकों का नियमन करने के बाद उसने उन्हें किले के बाहर तैनात कर दिया। एक अफ़वाह फैली कि 25 मई को ईद-उल-फितर के दिन अशांति होगी। उक्त दिवस दिन और रात किले के फाटक बन्द रखे गए और अनेक प्रकार से सुरक्षा की व्यवस्था की गई। वह दिन किसी भी प्रकार की अशांति नहीं हुई और न ही सेना ने विद्रोह किया, परन्तु नक्षत्रों के प्रभाव के कारण कौम-ए-दोगर तथा कौम-ए-माली में तकरार हो गई। परस्पर झड़प के बाद वह विवाद भी समाप्त हो गया।

उस वर्ष सेना में मई 29 के दिन अशांति फैली। दिन के द्वितीय पहर की घंटी बज ही रही थी कि दादरी मार्ग से हाँसी से कुछ घुड़सवार आते हुए दिखलाई पड़े। हिसार के दिल्ली फाटक तक पहुँचने के बाद उन लोगों ने नगर का फाटक खुलवाया। जिलाधीश द्वारा नियुक्त 50 अश्वारोही सैनिक, जो दादरी से आए हुए थे इस फाटक की रक्षा के लिए वहाँ उपस्थित थे। उनमें से कुछ लोगों ने इनका साथ दिया और नगर के फाटक को खोल दिया और उन्हें भीतर बुला लिया। वे उनके साथ मिल गए और पुराने कारागार पर पहुँचकर, वहाँ तैनात सिपाहियों को अपने साथ मिला लिया। कारागार को खोलकर उन्होंने पुराने एवं नए कैदियों को मुक्त किया। सभी प्रकार के लोग, विशेषकर, दुष्ट प्रकृति के लोग भी छोड़ दिए गए। उनमें से कुछ दुष्ट इस सेना के साथ मिल गए और नए कारागार पहुँच गए। वहाँ एक कारखाना था जिसमें लगभग पचास कारीगर कैद थे। उन सभी को रिहा कर दिया गया। कुछ सामग्री, जिन पर इन लोगों का मन आ गया था वे उठा ले गए, शेष बन्दियों ने मिलकर लूटमारी की। नगर में एक और परिवर्तन आने लगा। वे ही घुड़सवार एवं सैनिक जिनको सुरक्षा का भार सौंपा गया था एक हो गए और सिमट एवं होफ्री साहेब के बंगले की ओर चल पड़े। उन्होंने इन दोनों साहिबों के बच्चों एवं मेमों की हत्या कर दी। परमिट के प्यून एवं कोठी के सुरक्षाकर्मी भी इनसे मिल गए। वहाँ से वे न्यायालय की ओर आए और जिलाधीश की गोली मारकर हत्या कर दी। होफ्री साहेब किरानी भी मारा गया। सीमट साहेब गश्तीदल के घुड़साल में छिपकर अपनी जान बचाने में सफल हो गए। वह उस समय गोलियों से बच गया और अपने को सुरक्षित बचा पाया। उसकी सम्पत्ति लूटी गई और उसके बँगले को जला दिया गया। फिर वही घुड़सवार जिलाधीश की कोठी की ओर बढ़े। हरियाणा पलटन के सोलह सिपाही उन से जा मिले। उन्होंने खजाने को अपने कब्जे में ले लिया। दफ्तरखाने की सम्पत्ति लूटी और लुटवाई गई। फिर जिलाधीश के आवासीय बँगले की सम्पत्ति को लूटने के पश्चात् उन्होंने उस बँगले को नष्ट कर दिया। जिलाधीश का परिवार तथा उसके बच्चे बचकर भाग निकले। उसके बाद शेष सिपाही और घुड़सवार भी इन बदमाशों और लुटेरों से आ मिले। मात्र अजितन साहेब व उसकी स्त्री किले में मारे गए और शेष पाँच साहेब वहाँ से भागकर, बच गए। तहसीलदार, थॉमस साहेब भी मारा गया। न्यायालय व तहसील को लूटा गया। बँगलों को अग्नि से जला दिया गया। नगरवासियों ने सरकारी बँगलों के छत में काम आनेवाली लकड़ी की बल्लियाँ तक उखाड़ ली और अपने घर ले गए।

उसी रात हरियाणा पलटन की कम्पनी कुछ घुड़सवारों के साथ वहाँ पहुँची। खजाने को ढ़ोकर वे हाँसी के मार्ग से दिल्ली के लिए कूच कर गए। इसके दूसरे दिन हिसार में अत्यधिक उपद्रव हुआ। कोई अपनी ही खुमारी में मस्त हुआ कहने लगा कि शहंशाह की नियाबत उसे प्राप्त थी। ये दो सेना की कम्पनियाँ जिन्हें धनागार पर नियुक्त किया गया था ने खजाने को ऊँठ-गाड़ियों में लादकर हिसार नामक इस स्थल पर आ पहुँचे। उपायुक्त शहबाज़ बेग तथा कोषाधीश (खजाँची) ने छिपकर अपनी जान बचाई। ये दोनों सैन्य कम्पनियाँ खजाने के साथ दिल्ली गईं। अहमद शाह दुर्रानी के पुत्र, शहज़ादा अज़ीम, जिसे सरकार ने गश्तीदल का सहायक परमिट बनाया था, को सम्पूर्ण विद्रोही सेना का अधिपति बनाया गया। परमिट में लगभग 500 चपरासी सिपाही थे। उन्होंने इस तथाकथित शहज़ादे को दिल्ली के सुल्तान की ओर से हरियाण जिले का सूबेदार अपनी ओर से घोषित कर दिया। तत्पश्चात् उन्होंने इस शहज़ादे से कचहरी-ए-तहसील में सूबेदारी का दरबार लगाने का अनुरोध किया। उन्होंने मनमाना आदेश दिया। अपना शासन बहाल करने के बाद उक्त शहज़ादा चपरासियों की भीड़ के साथ दिल्ली की ओर रवाना हुआ। परन्तु दिल्ली में वह इस प्रकार की लड़ाइयों में फँसा कि कभी हिसार लौटकर न आ पाया। सरकार ने अपने बंदोबस्त किए। एक नया आयुक्त अथवा जिलाधीश हिसार में आया। जिस किसी के प्रति भी आरोप सिद्ध हुआ, उन सभी को दण्डित किया गया और उसने हिसार में अपनी व्यवस्था तंत्र को पूर्णतया स्थापित कर लिया।

सिरसा

उस वर्ष 1857 की 29 मई के दिन सिरसा के नगर और छावनी में यह अफवाह छा गई कि जिला के लगभग 400 घृणित एवं दुष्ट ग्रामवासी फतेहबाद में एकत्रित हुए थे। साहिब-ए-ब्रितानी ने तुरन्त अपनी मेमों एवं बच्चों को पटियाला के राजा के संरक्षण में आनेवाली साहुवाला नामक जगह भेज दिया। साहिबाँ अपने आप से विचार-विमर्श करने लगे। हिसार से प्राप्त चिट्ठियों के माध्यम से वहाँ हुए उपद्रव का समाचार उन्हें अच्छी प्रकार ज्ञात था। सिरसा के साहिबाँ सिरसा से खिसक लेने के अतिरिक्त कुछ और नहीं कर सकते थे। पाँच-सात लोग भला क्या कर लेते? रात में सिरसा के असहाय साहिबाँ भाग निकले। हरियाणा पलटन व चपरासियों की कम्पनी ने खजाने को अपने वश में किया और उसे लेकर दिल्ली चले गए। उन्होंने सिरसा नगर को जी भरकर लूटा। जब जान बचाकर साहिबाँ-ए-ब्रितानी मौज़ा बहरैच नामक जगह पहुँचे तो वहाँ के ग्रामीणों को भी ग़डबड़ी करने की सूझी। थानेदार बच्चू सिंह वफादार रहे और उन्होंने सभी को बचा लिया और उपद्रव को नष्ट कर दिया। उस दिन पटियाला के राजा के सैनिक सहायतार्थ वहाँ पहुँचे। वे उन्हें मौज़ा दूधल ले गए। महाराज के उद्यानवन में उनका डेरा लगाया गया और महाराज की ओर से खूब आवभगत की गई और जश्न मनाया गया। वे वहाँ पन्द्रह दिनों तक रहे। महिलाओं एवं बच्चों को कसाउली भेज देने के बाद साहिबाँ-ए-अंग्रेज 30 जून को पुन: सिरसा लौट आए, और उस भाग पर अपना पूर्ण अधिकार स्थापित कर लिया।

हाँसी

दिल्ली में उपद्रव होने के समय हाँसी में दो रेजिमेण्ट उपस्थित थी। 15 जून को सरकारी सेना में चौथा रिसाला आ मिला। उसके बाद उस प्रान्त के आस-पास के अराजकी तत्त्व वहाँ एकत्रित हुए। पूरी सेना विद्रोह पर उतर आई। कुछ घुड़सवार दिल्ली से आए और रोहतक के खजाने को दिल्ली ले गए। पुन: 29 जून के दिन यहाँ हिंसा एवं उपद्रव भड़के। परमिट के सभी चपरासी सिपाहियों ने विद्रोह कर दिया। हरियाणा पलटन ने भी विद्रोह कर दिया। महिलाओं और बच्चों को हिसार भेज दिया गया और अत्यन्त कठिनाई से साहिब लोग अपनी जान बचाकर भाग निकले। वे राजग़ढ नामक एक स्थान पर पहुँचे जो बीकानेर के राजा की परिधि में आता था। बीकानेर के राजा की ओर से उनका खूब स्वागत-सत्कार किया गया और खूब दावतें की गई। वे वहाँ शांति से कई दिन रुके। तत्पश्चात् हिसार आदि में प्रशासन की पुन: व्यवस्था स्थापित होने के समय ये साहिब लोग भी अपनी जगह लौट गए। इसके बाद यहाँ फिर कोई उपद्रव नहीं हुआ।

 

क्रांति १८५७

आपके सुझाव सादर आमंत्रित

 

आपका ई-मेल

 
  आपका पासवर्ड
 
नया सदस्य ? रजिस्टर फ़्री

क्रान्ति से जुड़े प्रमुख शहर

 

अहमदाबाद

  अवध
  आज़मग़ढ
 

इलाहबाद

 

कडप्पा

 

करनूल

 

कालपी

 

कानपुर

  कारवार
 

कोटा

  कोल्हापुर
  गंजम
 

गोधरा

  गुन्टूर
  चिंगलपुट
 

जगदीशपुर

 

जोधपुर

  जौनपुर
 

झांसी

 

डाकोर

 

दाहोद

 

दिल्ली

 

नसीराबाद

  नारखेड
 

नांदोद

  नैलोर
  पुणे
 

पेशावर

 

बनारस

  बंगलौर
 

वाराणसी

 

बरेली

 

बेरकपुर

  बिजापुर
  मछलीपट्टनम्
  मद्रास
 

मुजफ्फरनगर

 

मेरठ

 

मेवाड

  मैसूर
  राजमहन्द्री
  रूईयागढ़ी
 

लखनऊ

 

लाखिमग्रह

 

वेल्लूर

  विशाखापट्टनम्
 

सतारा

  सावंतवाड़ी
  सिरसा
 

सूरत

 

सौराष्ट्र

  हलगली
  हमीरपुर
  हाँसी
  हिसार

क्रान्ति से जुड़े प्रमुख राज्य

  असम
  उत्तर प्रदेश
  - बरेली
  - झांसी
  - लखनऊ
  - कानपुर
  - इलाहबाद
  - मुजफ्फरनगर
  - मेरठ
  - बनारस
  - आज़मग़ढ
  - हमीरपुर

  - जगदीशपुर
  - जौनपुर
  - रूईयागढ़ी
  - कालपी
  - दादरी
  - सिकन्दराबाद
  - गढ़मुक्तेश्वर
  - गुलावठी
  - हापुड़
  - हिन्डन
  - मुकीमपुर
  - पिलखुवा
  - सपनावत
  - सीकरी खुर्द
  - असौड़ा
  - बड़ौत
  - बाघू निरोजपुर
  - बझौट
  - बराल
  - बसौद
  - भदौला
  - धौलाना
  - घाट पाँचली
   उडीसा
  कर्नाटक
  - बेलगाँव
  - मैसूर
  - बंगलौर
  - बिजापुर
  - कारवार
  - हलगली
  - भाल्की
  - नरगुन्द
  - कोप्पल
  गुजरात
  - अहमदाबाद
  - सौराष्ट्र
  - सूरत
  - गोधरा
  - नांदोद
  - डाकोर
  - दाहोद
  जम्मू और कश्मीर
  तमिलनाडू
  - वेल्लूर
  - मद्रास
  - चिंगलपुट
   पश्चिम बंगाल
  - बेरकपुर
  - कलकत्ता
   पंजाब
  - रोहिणी
  - देवग़ढ
  - जालन्धर
   बिहार
  मध्य प्रदेश
  राजस्थान
  - नसीराबाद
  - नीमच
  - जोधपुर
  - मेवाड
  - कोटा
   हरियाणा
  - हिसार
  - सिरसा
  - हाँसी
   गोवा
  केरल
  महाराष्ट्र
  - सतारा
  - पुणे
  - सावंतवाड़ी
  - कोल्हापुर
  - नासिक
  - पेठ
  - त्र्यबकेश्वर
  - मुंबई
  - बीड
  आन्ध्र प्रदेश
  - कडप्पा
  - करनूल
  - नैलोर
  - विशाखापट्टनम्
  - गंजम
  - नारखेड
  - राजमहन्द्री
  - मछलीपट्टनम्
  - गुन्टूर

पडोसी देशो मे क्रान्ति

  पाकिस्तान
  बांग्लादेश
  अफ़गानिस्तान
  नेपाल
  बर्मा
  तिब्बत
  भूटान
  रूस
 

वेबसाइट के लिए प्राप्त संदेश

 

विमोचन समारोह

 

सहयोगकर्ताओ की सूची

 

प्रकाशक

 

संस्थान

 

सहयोगकर्ता

क्रांति १८५७
मुख्य पृष्ठ प्रस्तावना प्रमुख सवाल जवाब संपर्क करें सहायता आपकी राय
अ आ इ ई उ ऊए ऐ ओ औ अंक ख ग घच छ  ज झ ञट ठ ड ढ़ णत थ द ध नप फ ब भ म य र ल वश ष स ह ळ क्ष त्र ज्ञ

 

सर्जन कर्ता:
ज्ञान गंगा ऑनलाइन
उदयपुर मित्र मण्डल, डा. सुरेन्द्र सिंह पोखरणा, बी-71 पृथ्वी टावर, जोधपुर चार रास्ता, अहमदाबाद-380015,
फ़ोन न.-26925850 ,मोबाईल-09825646519, ई-मेल--sspokharna15@yahoo.com
इतिहास अध्यापक मण्डल, गुजरात

 

हाई-टेक आऊट सोर्सिंग सर्विसेज, हाई-टेक हाऊस, विमूर्ति कोम्पलेक्स के पीछे, हरेश दुधीया के पास, गुरुकुल, अहमदाबाद - 380052
फोन न.: -079-40003000 ई-मे ल:info@hitechos.com